Connect with us

Songs

Aarti Kunj Bihari Ki Krishna Aarti

Find Download Link of Aarti Kunj Bihari Ki Krishna Aarti MP3, Aarti Kunj Bihari Ki Krishna Aarti MP4 Video and Aarti Kunj Bihari Ki Krishna Aarti Lyrics for FREE!

Published

on

Aarti Kunj Bihari Ki Krishna Aarti Mp3 Download

Aarti Kunj Bihari Ki Krishna Aarti - Download Aarti Kunj Bihari Ki Krishna Aarti Mp3 Song Music to your devices with 320kbps ultra high quality audio for Free at Mp3Juice. You may also find the complete lyrics of Aarti Kunj Bihari Ki Krishna Aarti and video clip as well. All the songs provided are belong to YouTube, we do not host any single of songs and music on our website, Happy Listening!

Aarti Kunj Bihari Ki Krishna Aarti

Title Aarti Kunj Bihari Ki
Artist Hariharan
Album Krishna Janmashtami Special Bhajans Vol-5
Year 2017
Duration 4:23
File Size 4.01 MB
File Type MP3
Audio Summary 44100 Hz, stereo, s16p, 192 kb/s
Source YouTube Music

Download MP3

Lyric of Hariharan - Aarti Kunj Bihari Ki

आरती कुंज बिहारी की, श्री गिरीघर कृष्ण मुरारी की
(आरती कुंज बिहारी की, श्री गिरीघर कृष्ण मुरारी की)
आरती कुंज बिहारी की, श्री गिरीघर कृष्ण मुरारी की
(आरती कुंज बिहारी की, श्री गिरीघर कृष्ण मुरारी की)

गले में वैजंती माला
बजावै मुरली मधुर बाला
श्रवण में कुंडल झलकाला
नंद के आनंद नंदलाला
गगन सम अंधकांति काली
राधिका चमक रही याली
लतन में ठाढ़े वनमाली

भ्रमर सी अलग, कस्तूरी तिलक, चंद्र सी झलक
ललित छवि श्यामा प्यारी की
श्री गिरीघर कृष्ण मुरारी की

(आरती कुंज बिहारी की, श्री गिरीघर कृष्ण मुरारी की)
(आरती कुंज बिहार की, श्री गिरीघर कृष्ण मुरारी की)

कनक मय-मोर-मुकुट दिल से
देवता दर्शन को तरसे
गगन सौं सुमन राशी बरसै

बजै मुरचंग, मधुर मृदंग, ग्वालिनी संग
अतुल रती गोप कुमैरी की
श्री गिरीघर कृष्ण मुरारी की

(आरती कुंज बिहारी की, श्री गिरीघर कृष्ण मुरारी की)
(आरती कुंज बिहारी की, श्री गिरीघर कृष्ण मुरारी की)

जहाँ ते प्रकट भयी गंगा
सकल मल्हारिनी श्री गंगा
स्मरण ते होत मोह भंगा

बसी शिव शीष, जटा के बीच
हरे अघ कीच, चरण छवि श्री बनवारी की
श्री गिरीघर कृष्ण मुरारी की

(आरती कुंज बिहारी की, श्री गिरीघर कृष्ण मुरारी की)
(आरती कुंज बिहारी की, श्री गिरीघर कृष्ण मुरारी की)

चमकती उज्ज्वल तट रेनु
बज रही वृंदावन बेनु
चहुँ दिशी गोपी-ग्वाल धेनु

हँसत मृदु-मंद, चाँदनी चंद्र
कटत भव-भंद, टेढ़ सुनु दीन दुःखारी की
श्री गिरीघर कृष्ण मुरारी की

आरती कुंज बिहारी की, श्री गिरीघर कृष्ण मुरारी की
(आरती कुंज बिहारी की, श्री गिरीघर कृष्ण मुरारी की)

(आरती कुंज बिहारी की, श्री गिरीघर कृष्ण मुरारी की)

Aarti Kunj Bihari Ki Krishna Aarti Video Clips:

Related Posts